बड़े अस्पतालों एवं दवा निर्माता कंपनियों की बड़ी लापरवाही

नोएडा के बड़े निजी अस्पताल एवं नामी दवा निर्माता कंपनी की बड़ी चूक या यूं कहें कि लापरवाही सामने आई है।
मामला है नोएडा के एक निजी अस्पताल फोर्टिस का, जिसका परिचय कराने की जरूरत नही है, और एक बड़ी दवा निर्माता कंपनी Pharmaceuticals Pvt Ltd.
नोएडा के ही निवासी पंकज मिश्रा ने दिनांक 8 नवंबर 2017 को अपनी पत्नी बीना मिश्रा को फोर्टिस अस्पताल में एडमिट किया। जहां से उन्हें उपचार के बाद जरूरी दवाइयों के पर्चे के साथ दिनांक 12 नवंबर 2017 को डिस्चार्ज किया गया।
पर्चे पर लिखी दवाइयां वही फोर्टिस अस्पताल के ही फार्मेसी में उपलब्ध होती हैं, तो उन्होंने वहां से ले लिया।
अब बात आती है लापरवाही की, तो मिली जानकारी के अनुसार एक दवाई जिसका नाम CEFINE 500MG है, कीमत 346 रुपए प्रति 4 गोली है, उस दवा के पत्ते में गोली की जगह सिर्फ हवा थी।
कुछ और पूछताछ करने पर पंकज मिश्रा से यह पता चला कि उन्होंने अभी भी उस पत्ते की दो गोलियां नही खोली है, उन्हें जस का तस रखा है सबूत के तौर पर।
उन्होंने हमें बताया कि उन्होंने सारी जरूरी दस्तावेजों के साथ संबंधित कार्यालयों, मुख्यमंत्री, स्वास्थ्यमंत्री एवं पीएमओ को इ मेल किया है लेकिन अभी कही से भी कोई जवाब नही आया।
उन्होंने उक्त अस्पताल एवं दवा निर्माता को भी सारी जानकारी देते हुए इ मेल किया है, जिसमे फोर्टिस की तरफ से संतोषजनक जवाब नही मिला वहीं, दवा निर्माता की तरफ से उन्हें बताया गया कि हमारे यहां इस दवा की लाखों पत्ते एक दिन में बंटे हैं, तो ऐसी गलती हो जाती है।
ये था पूरा मामला
फार्मा कंपनी के अनुसार जब भी कोई कंपनी कोई दवा जैसी जरूरी चीज बनाती है तो उस प्रोडक्ट को बाहर बाजार में पहुचने तक कई सारे गुणवत्ता परीक्षण से गुजरना पड़ता है। अगर ये सिर्फ एक छोटी गलती थी तो कई गुणवत्ता परीक्षण से गुजरने पर भी उसे क्यो नही पकड़ा जा सका।
यहां पर ये भी बताते चले कि उस कंपनी के लिए तो ये महज एक छोटी सी गलती है, लेकिन किसी मरीज के लिए इस गलती की कीमत बहुत हो सकती है।
पंकज जी हमारे माध्यम से इस मामले को जनता तक पहुचना चाहते हैं, ताकि सरकार और जनता इन कंपनियों के मुनाफाखोरी और मानक से कम गुणवत्ता वाले सामानों की निगरानी कर सके।

One thought on “बड़े अस्पतालों एवं दवा निर्माता कंपनियों की बड़ी लापरवाही

  • November 15, 2017 at 2:06 pm
    Permalink

    Is par karywaai honi chahiye

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *