राहुल गांधी के अध्‍यक्ष पद के चुनाव के बाद मीडिया से सोनिया ने अध्‍यक्ष पद से रिटायर होने की बात कही।

दैनिक दिनकर,  नई दिल्‍ली :- कांग्रेस अध्यक्ष पद पर राहुल गांधी की ताजपोशी से एक दिन पहले पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज संकेत दिया कि वह सक्रिय राजनीति से हट सकती हैं। सोनिया ने राहुल के अध्यक्ष बनने के बाद पार्टी में उनकी भूमिका के बारे पूछे जाने पर यहां संसद परिसर में संवाददाताओं से कहा ‘मेरा काम संन्यास लेना होगा।’  सुरजेवाला ने ट्वीट कर मीडिया से आग्रह किया कि श्रीमती गांधी को राजनीति से रिटायर होने के स्वरूप में न बताया जाए। उन्‍होंने बताया कि सोनिया गांधी ने राजनीति नहीं छोड़ा है बल्‍कि वे कांग्रेस अध्यक्ष पद से रिटायर हुई हैं। कांग्रेस के प्रति उनकी प्रतिबद्धता हमेशा रहेगी।  जब उनसे यह सवाल किया गया कि अब उनकी भूमिका क्या होगी, तब उन्होंने यह जवाब दिया। गौरतलब है कि राहुल गांधी सोमवार (11 दिसंबर) को कांग्रेस पार्टी के नये निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए हैं।  सीताराम केसरी की जगह वर्ष 1998 में सोनिया गांधी को कांग्रेस अध्‍यक्ष का पद सौंपा गया था। कांग्रेस का नेतृत्‍व करने वाले नेहरु-गांधी वशंज के सातवें सदस्‍य राहुल गांधी हैं।

16 दिसंबर को संभालेंगे कमान : राहुल गांधी

अध्यक्ष पद की कमान संभालने के साथ राहुल पर संगठन में बदलाव, संसद के शीतकालीन सत्र में केन्द्र सरकार का घेराव, सशक्त विपक्ष की धारदार भूमिका और 18 दिसंबर को चुनाव आयोग द्वारा गुजरात विधानसभा चुनाव के नतीजों की होने वाली घोषणा के बाद उत्पन्न होने वाली राजनीतिक स्थिति से निबटने की तात्कालिक चुनौती होगी।
आपको बता दें कि राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद पर ताजपोशी से पहले एग्जिट पोल के नतीजों ने उनकी उम्मीदों को बड़ा झटका दिया है। विभिन्न एग्जिट पोल के नतीजे बता रहे हैं कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) गुजरात का अपना गढ़ बचाने में कामयाब रही है। इसके साथ भाजपा ने कांग्रेस से हिमाचल प्रदेश का ताज छीन भी लिया है। एग्जिट पोल के नतीजे गुजरात और हिमाचल दोनों ही राज्यों में भाजपा की सरकार बनने की संभावना जता रहे हैं।

सोनिया- अब मैं रिटायर हो रही हूं, क्या जवाब दिया पार्टी ने 

कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला का भी बयान आ गया है। उन्होंने कहा है कि सोनिया सिर्फ अध्यक्ष पद से रिटायर हो रही हैं और वह सक्रिय राजनीति में बनी रहेंगी। सुरजेवाला ने कहा कि सोनिया हमेशा पार्टी का मार्गदर्शन करती आई हैं और आगे भी करती रहेंगी। राहुल गांधी को इसी महीने पार्टी अध्यक्ष पद पर निर्विरोध चुना गया है। शनिवार को वह सोनिया गांधी से पार्टी की कमान  संभालेंगे जो पिछले 19 वर्षों से अध्यक्ष पद पर हैं। सोनिया गांधी का स्वास्थ्य पिछले कुछ समय से बहुत अच्छा नहीं रह रहा है जिसके कारण उनकी सक्रियता भी कम हुई है। गुजरात के महत्त्वपूर्ण विधानसभा चुनाव के दौरान भी वह प्रचार से पूरी तरह दूर रहीं। इस समय वह पार्टी अध्यक्ष के साथ-साथ संसद में कांग्रेस संसदीय दल की नेता भी हैं। सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ विपक्ष को एकजुट करने में उनकी महत्त्वूपर्ण भूमिका रही है। सोनिया गांधी से शुक्रवार को जब पत्रकारों ने पूछा कि राहुल के अध्यक्ष बनने के बाद पार्टी में उनका रोल किस तरह का रहेगा, तो उनका जवाब था, ‘मैं रिटायर हो रही हूं।’ गौरतलब है कि सोनिया गांधी 1998 में कांग्रेस की अध्यक्ष बनी थीं। वह 19 साल तक कांग्रेस अध्यक्ष पद पर रहीं। इस दौरान उनकी अध्यक्षता में कांग्रेस ने लगातार दो लोकसभा चुनाव (2004 और 2009) जीते। सोनिया कांग्रेस की अगुवाई वाले यूपीए (संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन) की चेयरपर्सन भी रहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *